Pages

Friday, December 21, 2007

घट रहे हैं पेंग्विन

ग्लोबल वार्मिंग के बढ़ते खतरों के बीच यह बात सामने आई है कि अंटार्कटिका में पेंग्विन की जनसंख्या घट रही है. वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड की ताजा रिपोर्ट में यह चिंताजनक खुलासा किया गया है. रिपोर्ट में बताया गया कि अंटार्कटिका पर पाई जाने वाली पेंग्विन की 4 प्रजातियों - चिनस्ट्रैप, इम्पेरर, एडली और जेंटू के बजूद पर खतरा मँडरा रहा है.

ग्लोबल वार्मिंग की वजह से वह जमीन छिनती जा रही है, जो पेंग्विन के बच्चों के बढ़ने के लिए जरूरी है. असल में पेंग्विन सी-आइस (वह बर्फ जो अंटार्कटिका में सबसे कम तापमान के दिनों में समुद्र के पानी से बनती है) अंडे देती है. रिपोर्ट में कहा गया है कि जलवायु परिवर्तन और जरूरत से ज्यादा मछली मारने की वजह से पेंग्विन के लिए भोजन की कमी भी एक समस्या बन रही है.

वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड के अंतरराष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन कार्यक्रम के डायरेक्टर अन्ना रिनॉल्ड्स ने बताया कि अंटार्कटिका, धरती के तापमान में हो रही औसत बढ़ोतरी की तुलना में 5 गुना तेजी से गर्म हो रहा है. 26 साल में बर्फ में 40 फीसदी तक की कमी आई है. इस गिरावट की वजह से 'क्रिल' (बर्फ में रहने वाले झींगे जैसे जीव) की संख्या तेजी से घटी है, जो पेंग्विन का मुख्य भोजन माना जाता है.
चित्र: साभार विकी

3 comments :

महेंद्र मिश्रा said...

बहुत बढ़िया सराहनीय

बेनाम said...

यह तो बहुत ही शानदार चिट्ठा है. पर्यावरण पर इतने प्रभावी तरीके से जानकारी देने का कार्य बेहद प्रशंसनीय है. लेकिन आप अपने बारे में कुछ नहीं बता रहे भाई, ऐसा क्‍यों? कृपया इस सिलसिले को निरंतर कायम रखें. आपकी आवाज जरूर सुनी जाएगी.

मीनाक्षी said...

बहुत अच्छी जानकारी, इस पोस्ट को पढ़ने के बाद फिल्म 'हैप्पी फीट' याद आ गई और दुबई डीपीएस स्कूल में वार्षिक उत्सव पर्यावरण को लेकर ही मनाया गया था.

Post a Comment

पर्यानाद् आपको कैसा लगा अवश्‍य बताएं. आपके सुझावों का स्‍वागत है. धन्‍यवाद्