Pages

Monday, May 21, 2012

इंसानों के लालच का शिकार हो रहा है अमेजन


अमेजन के सुंदर, हरे-भरे और प्राकृतिक संपदा से भरपूर इलाके में घूमने का आनंद स्वर्गिक है। लेकिन दुनिया की यह खूबसूरत जगह मनुष्य के लालच का शिकार बन रही है। दक्षिणी अमेरिका के उत्तर में बहने वाली अमेजन नदी की मुख्य धारा 6,400 किलोमीटर लंबी है। अलग अलग रंगों वाली सहायक नदियों के साथ मिल कर यह दुनिया की सबसे बड़ी नदी बन जाती है।

अमेजन 70 लाख वर्ग किलोमीटर के इलाके में फैला हुआ है। इसका सबसे ज्यादा हिस्सा ब्राजील में है। बाकी फ्रांसीसी गयाना, सूरीनाम, गयाना, वेनेजुएला, कोलंबिया, इक्वाडोर, पेरू और बोलीविया में।

ग्रीन पीस संगठन का दावा है कि 15 फीसदी वर्षावन खत्म हो गए है। आबादी बढ़ने के साथ इमारतों और खेत की जरूरत बढ़ रही है। महंगी लकड़ी पाने और रोड बनाने के लिए भी जंगलों को नष्ट किया जा रहा है।

यहां के वर्षावन का एक हिस्सा यूनेस्को की सांस्कृतिक धरोहर हैं। ब्राजील का जाऊ नैशनल पार्क दुनिया के सात नए प्राकृतिक अजूबों में शामिल है। अमेजन में पाए जाने वाले जानवरों में जैगुआर भी शामिल हैं। यह अमेरिकी महाद्वीप की सबसे बड़ी जंगली बिल्ली है. माया और इंका संस्कृतियों में जैगुआर को दैवीय कृति माना जाता था।

बहुत ज्यादा पानी होने के कारण यह इलाका दुनिया की जलवायु के लिए अहम है। यहां के जंगल धरती को गरम होने से बचाते हैं. यहां पाए जाने वाले पेड़ पौधे करीब 100 अरब टन कार्बन सोखते हैं।

अमेजन में सिर्फ ढेर सारी लकड़ी ही नहीं है बल्कि बहुत सारे खनिज भी हैं। अक्सर इन्हें निकालने के लिए जहरीले रसायनों का इस्तेमाल किया जाता है जो जमीन प्रदूषित करता है।

अमेजन के जंगलों में रहने वाले रेड इंडियंस और अन्य आदिवासियों को जंगलों के खत्म होने से भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। अमेजन में कम से कम 320 अलग अलग जाति के आदिवासी हैं।

टिकाऊ सामाजिक और आर्थिक विकास रियो डे जेनेरियो में होने वाले यूएन सम्मेलन का मुख्य विषय है। अप्रैल के अंत में ब्राजील की संसद ने वर्षावनों की सुरक्षा के कानून में ढील दी है।

2 comments :

अमित राठी said...

yah bahut hi saramnak baat hai. agar amazon ke jangal ko nasht kar diya to duniya me jabardast tabahi hogi isliye ise rokne ka kaam sabko karna chahiye.

सुशील said...

बहुत ही अच्‍छी जानकारी है. आपका ब्‍लाग अच्‍छा लगा.

Post a Comment

पर्यानाद् आपको कैसा लगा अवश्‍य बताएं. आपके सुझावों का स्‍वागत है. धन्‍यवाद्