Pages

Tuesday, January 15, 2008

गहरे समुद्र में हंपबैक व्‍हेलों का रहस्‍यमयी गान

हंपबैक व्‍हेल बहुत ही सौम्‍य और निरापद जीव हैं. समुद्र की गहराइयों में विचरने वाले ये भीमकाय जीव सदा रहस्‍य के आवरण में घिरे रहे हैं. मानव के साथ इनका संपर्क तभी होता है जब जापान जैसे देश इनका शिकार करने के लिए समुद्र में जाते हैं. पहली बार इनके एक अनछुए पहलू के बारे में कुछ दुर्लभ तस्‍वीरें और ध्‍वनियां प्राप्‍त हुई हैं. गहरे शांत समुद्र में जलविहार करती हंपबैक व्‍हेल के एक झ़ुंड का आपसी संवाद या फिर मस्‍ती में गाया जा रहा कोई गीत... न जाने यह क्‍या है. आप भी सुनिए और आनंद लीजिए.

3 comments :

Pratyaksha said...

पानी के अंदर वाला हिस्सा अद्भुत है । कभी पढ़ा था कैपटेन कूस्तो के मरीन कंसरवेशन और पॉरपॉयेज़ेस पर उनके काम के बारे में । एक प्रोग़्राम आता था शायद डिस्कवरी या नैशनल ज्योग्राफिक पर बहुत पहले 'अंडर द सी ' ।

Poonam said...

आपके लेख के बाद विकीपीडिया में जाकर इन रह्स्यमयी जीवों के बारे में और जानकारी ली.पता चला हर क्षेत्र के व्हेल एक ही गाना (संगीत) गाते हैं परन्तु भिन्न क्षेत्रों का गाना भिन्न होता है. यह भी यह ध्वनियां सिर्फ नर व्हेल ही निकालते हैं . रोचक और बेमिसाल प्रस्तुति के लिये धन्यवाद

हर्षवर्धन said...

कहां-कहां जाकर क्या ला रहे हैं। दरअसल है तो सब हमारी प्रकृति की हिस्सा ही लेकिन, अब जिस तरह से ये खत्म हो रहे हैं जरूरी है कि इनके बारे में और इनसे हमारी जिंदगी कितनी अहमियत से जुड़ी है इस बारे में ज्यादा से ज्यादा लोग जानें। जो सबसे सार्थक ब्लॉग हैं उनमें मैं इस ब्लॉग को शामिल करता हूं।

Post a Comment

पर्यानाद् आपको कैसा लगा अवश्‍य बताएं. आपके सुझावों का स्‍वागत है. धन्‍यवाद्