Pages

Tuesday, November 27, 2007

ग्‍लोबल वार्मिंग: कपड़े उतार कर विरोध

ठंड लगने पर आप क्‍या करते हैं? कपड़े पहनते हैं...! एक ग्‍लेशियर निर्वस्‍त्र होने लगे तो आप क्‍या करेंगे? स्विट्जरलैंड में पिछले दिनों 600 लोगों ने पिघलते हुए एक ग्‍लेशियर के लिए कड़कड़ाती ठंड में अपने कपड़े उतार कर ग्‍लोबल वार्मिंग के खिलाफ अनूठे तरीके से विरोध जताया क्‍योंकि ग्‍लेशियर पर चढ़ी बर्फ की मोटी चादर उसके वस्‍त्र हैं और ग्‍लोबल वार्मिंग के कारण ग्‍लेशियर पिघलने से ग्‍लेशियर भी निर्वस्‍त्र हो रहे हैं. स्विट्जरलैंड का Aletsch Glacier सिर्फ एक साल में 115 मीटर पिघल गया. यह समस्‍या सारी दुनिया में है. इससे संबंधित समाचार यहां है.

चेतावनी : कृपया ध्‍यान दें, इस वीडियो में न्‍यूडिटी है लेकिन अश्‍लील नहीं है. यह बच्‍चों के देखने के लिए नहीं है.

5 comments :

महेंद्र मिश्रा said...

पर्यावरण संरक्षण के संबंध मे जानकारी देने के लिए धन्यवाद. इसी तरह जानकारी देते रहे

मीनाक्षी said...

प्रकृति में कलात्मक रूप जीवंत हो उठा .
प्रकृति से प्यार करने वाले अपने अपने तरीके से उसे बचाने के लिए उपाय कर रहे हैं.
एक अकेला दिया हूँ इस सदन में ---की भावना से यदि हम सब अपनी अपनी तरह से कुछ न कुछ करते रहें तो ज़रूर प्रकृति का सौन्दर्य और आस्तित्त्व बचाया जा सकता है.

बाल किशन said...

आपने एक ज्वलंत वैश्विक समस्या को एक बार फ़िर एक नग्न सत्य के रूप मे सामने लाकर सबकी चेतना को झकझोर दिया है.

पर्यानाद said...

महेंद्र जी, मीनाक्षी जी, बाल किशन जी, आप सभी का धन्‍यवाद. मैं प्रयास करूंगा कि अपेक्षाओं को पूरा कर सकूं. यह केवल जानकारी देने का प्रयास नहीं है बल्कि मैं चाहता हूं कि जाग्रति हो, सब अपने उत्तरदायित्‍व को समझें और कुछ न कुछ पहल अवश्‍य करें.

Sanjeeva Tiwari said...

अपना अपना तरीका है जी । ग्‍लोबल वार्मिंग का विरोध मानसिकता में होनी चाहिए, आपने टिप्‍पणी में इसे स्‍पष्‍ट कर दिया है ।

धन्‍यवाद, लिखते रहें, कलम ही विचारों में परिर्वतन का दम रखती है ।

आरंभ
जूनियर कांउसिल

Post a Comment

पर्यानाद् आपको कैसा लगा अवश्‍य बताएं. आपके सुझावों का स्‍वागत है. धन्‍यवाद्